• 311, TBC Tower, near Geeta Bhawan Square, INDORE
  • Mon - Sat 8.00 - 18.00. Sunday CLOSED

Clinic Timing

10AM To 7PM , Sunday Closed

Personal Cabinet

Qualified Staff

Get Result Online

Satisfied Patients
Call : +91-6261824727

सोरायटिक आर्थराइटिस – डॉ. आशीष बाड़ीका – आर्थराइटिस रुमेटोलोजी सेंटर इंदौर

सोरायटिक आर्थराइटिस - डॉ. आशीष बाड़ीका - अर्थराइटिस रुमेटोलोजी सेंटर इंदौर

सोरायटिक आर्थराइटिस क्या है?

सोराइटिक आर्थराइटिस इंफ्लेमेटरी आर्थराइटिस का एक प्रकार है। सोरायटिक आर्थराइटिस कई सारे जोड़ो को प्रभावित कर सकता है, इस बीमारी के कारण कई सारी तक़लीफो का सामना करना पड़ सकता है, जैसे की हाथ पैर की उँगलियों में सूजन और साथ ही जोड़ो में दर्द।

सोरायटिक आर्थराइटिस की कई पहचाने: –

कुछ लक्षण हैं जो आपके शरीर के कुछ हिस्सों को प्रभावित कर सकते हैं।

उँगलियों या पैर के अंगूठो में सूजन: इस बीमारी में आपके पैर के अंगूठों अथवा उँगलियों में सूजन हो जाती है।

त्वचा एवं चमड़ी पर चक्कते : कई तरह के मामलों में सोरायटिक आर्थराइटिस के साथ पपड़ीदार, चमकीली सफ़ेद रंग के चकत्तेदार, मोती, लाल त्वचा की शिकायत जुड़ जाती है। नाख़ून अलग तरह के दिखने लगते है जैसे की धब्बेदार और संक्रमित। कई बार नाख़ून जड़ से उखाड़ने लग सकते है।

 सोरायटिक आर्थराइटिस - डॉ. आशीष बाड़ीका - अर्थराइटिस रिउम्याटोलोजी सेंटर इंदौर

आँखों की समस्या : सोरायटिक आर्थराइटिस से परेशान लोगों को आँखों में सूजन की समस्या हो सकती है, जिससे लालिमा, खुजली और देखने में समस्या या आँखों के आस-पास के टिशूज में लालिमा और दर्द हो सकता है।

सोरायटिक आर्थराइटिस की बीमारी के दौरान आप रीढ़ की हड्डी में दर्द और अकड़न महसूस कर सकते है। आपके शरीर के कुछ हिस्सों जैसे कूल्हों, घुटनो, टखनों, पैरों, कोहनी, हाथों, कलाई, और अन्य जोड़ों में दर्द, सूजन और कमजोरी भी महसूस हो सकती है।
पैर के पिछले हिस्से या एड़ी में दर्द की शिकायत हो भी सकती है।

सही समय पर विशेषज्ञ से उपचार कराने पर इस बीमारी को नियंत्रित किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these <abbr title="HyperText Markup Language">HTML</abbr> tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

*