• 311, TBC Tower, near Geeta Bhawan Square, INDORE
  • Mon - Sat 8.00 - 18.00. Sunday CLOSED

Clinic Timing

10AM To 7PM , Sunday Closed

Personal Cabinet

Qualified Staff

Get Result Online

Satisfied Patients
Call : +91-6261824727

Category Archives: Blog

बाल्यावस्था एवं गठिया रोग, निदान | Childhood and Rheumatic Diseases

बाल्यावस्था एवं गठिया रोग, डॉ. आशीष बाड़ीका, आर्थराइटिस एवं रुमेटोलोजी सेंटर इंदौर

एक आम भ्रांति है कि गठिया रोग बाल्यावस्था में नहीं होता । परंतु अनेक बच्चे भी इस बीमारी से जूझ रहे हैं। बच्चों के गठिया का सबसे आम प्रकार जूवनायल आर्थ्राइटिस (JIA) है, जिसे किशोर संधिशोथ के रूप में भी जाना जाता है। बचपन के गठिया जोड़ों को स्थायी शारीरिक क्षति पहुंचा सकते हैं। यह क्षति बच्चे के लिए चलने या कपड़े पहनने जैसी रोज़मर्रा की चीज़ों को कठिन बना सकती है और इसके परिणामस्वरूप विकलांगता हो सकती है।

बाल्यावस्था एवं गठिया के लक्षण | Symptoms of Childhood and Arthritis

कुछ ऐसे लक्षण जो समय के साथ साथ पता चलते है।

  • जोड़ों का दर्द
  • सूजन
  • बुखार
  • थकान
  • भूख न लगना
  • आंख की सूजन
  • चलने, कपड़े पहनने और खेलने जैसे दैनिक जीवन की गतिविधियों में कठिनाई

बाल्यावस्था के गठिया का सही कारण अज्ञात है। बचपन के गठिया में प्रतिरक्षा प्रणाली ठीक से काम नहीं कर पाते है, जो जोड़ों और शरीर की अन्य प्रणालियों में सूजन का कारण बनती है।

बाल्यावस्था एवं गठिया निदान | Childhood and Arthritis Diagnosis

बचपन के गठिया का निदान शारीरिक परीक्षण और लक्षणों की समीक्षा, एक्स-रे और प्रयोगशाला परीक्षणों के माध्यम से किया जाता है।

ऐसे में आपको विशेष रूप से एक रुमेटोलॉजिस्ट जो बच्चों में गठिया और अन्य संबंधित स्थितियों में माहिर हैं, और आपको अपने नजदीक में रुमेटोलॉजिस्ट डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए|

सोरियाटिक अर्थराइटिस का इलाज इंदौर में | Psoriatic Arthritis Treatment in Indore

सोरीयाटीक आर्थ्राइटिस – इलाज – डॉ. आशीष बाड़ीका

सोरियाटिक गठिया दीर्घकालिक गठिया है जो ऑटोइम्यून रोग सोरायसिस से प्रभावित लोगों में होता है| यह अक्सर नाखूनों में बदलाव के साथ होता है जैसे कि नाखून में छोटे-छोटे गड्ढे (खड़ा होना), नाखूनों का मोटा होना और नाखून के बिस्तर से नाखून का अलग होना।

एक या एक से अधिक जोड़ों में दर्द, सूजन या जकड़न आमतौर पर सोरियाटिक गठिया में मौजूद होती है। सोरियाटिक गठिया में जोड़ो पे सूजन और प्रभावित जोड़ आमतौर पर लाल या स्पर्श करने पर गर्म होते हैं।

सोरीयाटीक आर्थ्राइटिस का इलाज | Treatment of Psoriatic Arthritis

सोरीयाटीक गठिया के लिए अलग अलग प्रकार के अत्याधुनिक दवाईया उपलब्ध है। उपचार जोड़ों के दर्द और अक्षमता को रोकने, आपके प्रभावित जोड़ों में सूजन को नियंत्रित करने एवं त्वचा रोग को नियंत्रित करने के पर केंद्रित है।

सोरीयाटीक गठिया के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं के प्रकार :

  • एन एस ए आई डी: नॉन स्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (एन एस ए आई डी) सोरियाटिक गठिया वाले लोगों के लिए दर्द से राहत और सूजन को कम कर सकते हैं।
  • डी एम आर डी स: सबसे आम उपचारों में दवाएं हैं जिन्हें डिजीज मॉडीफीइंग एंटीरहायमैटिक ड्रग्स (डी एम ए आर डी एस) कहा जाता है। ये दवाएं सोराटिक गठिया की प्रगति को धीमा कर सकती हैं और जोड़ों और अन्य ऊतकों को स्थायी क्षति से बचा सकती हैं।
  • जैविक एजेंट: जैविक प्रतिक्रिया संशोधक के रूप में भी जाना जाता है। यह वर्ग प्रतिरक्षा प्रणाली के विभिन्न मार्गों को लक्षित करता है।
  • एप्रेमिलास्ट : शरीर में एक एंजाइम की गतिविधि को कम करता है जो कोशिकाओं के भीतर सूजन की गतिविधि को नियंत्रित करता है

सोरीयाटीक गठिया के लक्षणों को नजरअंदाज करना हानिकारक हो सकता है | अगर आपको सोरीयाटीक गठिया की समस्या है, तो आपको इसका इलाज शुरू कर देना चाहिए। और आपको अपने नजदीक में रुमेटोलॉजिस्ट डॉक्टर से संपर्क करे |

सोरायटिक आर्थराइटिस - डॉ. आशीष बाड़ीका - अर्थराइटिस रुमेटोलोजी सेंटर इंदौर

सोरायटिक आर्थराइटिस – डॉ. आशीष बाड़ीका – आर्थराइटिस रुमेटोलोजी सेंटर इंदौर

सोरायटिक आर्थराइटिस क्या है?

सोराइटिक आर्थराइटिस इंफ्लेमेटरी आर्थराइटिस का एक प्रकार है। सोरायटिक आर्थराइटिस कई सारे जोड़ो को प्रभावित कर सकता है, इस बीमारी के कारण कई सारी तक़लीफो का सामना करना पड़ सकता है, जैसे की हाथ पैर की उँगलियों में सूजन और साथ ही जोड़ो में दर्द।

सोरायटिक आर्थराइटिस की कई पहचाने: –

कुछ लक्षण हैं जो आपके शरीर के कुछ हिस्सों को प्रभावित कर सकते हैं।

उँगलियों या पैर के अंगूठो में सूजन: इस बीमारी में आपके पैर के अंगूठों अथवा उँगलियों में सूजन हो जाती है।

त्वचा एवं चमड़ी पर चक्कते : कई तरह के मामलों में सोरायटिक आर्थराइटिस के साथ पपड़ीदार, चमकीली सफ़ेद रंग के चकत्तेदार, मोती, लाल त्वचा की शिकायत जुड़ जाती है। नाख़ून अलग तरह के दिखने लगते है जैसे की धब्बेदार और संक्रमित। कई बार नाख़ून जड़ से उखाड़ने लग सकते है।

 सोरायटिक आर्थराइटिस - डॉ. आशीष बाड़ीका - अर्थराइटिस रिउम्याटोलोजी सेंटर इंदौर

आँखों की समस्या : सोरायटिक आर्थराइटिस से परेशान लोगों को आँखों में सूजन की समस्या हो सकती है, जिससे लालिमा, खुजली और देखने में समस्या या आँखों के आस-पास के टिशूज में लालिमा और दर्द हो सकता है।

सोरायटिक आर्थराइटिस की बीमारी के दौरान आप रीढ़ की हड्डी में दर्द और अकड़न महसूस कर सकते है। आपके शरीर के कुछ हिस्सों जैसे कूल्हों, घुटनो, टखनों, पैरों, कोहनी, हाथों, कलाई, और अन्य जोड़ों में दर्द, सूजन और कमजोरी भी महसूस हो सकती है।
पैर के पिछले हिस्से या एड़ी में दर्द की शिकायत हो भी सकती है।

सही समय पर विशेषज्ञ से उपचार कराने पर इस बीमारी को नियंत्रित किया जा सकता है।

स्क्लेरोडर्मा- कैसे पहचाने | Scleroderma - How To Recognize, Dr. Ashish Badika

स्क्लेरोडर्मा- कैसे पहचाने – डॉ. आशीष बाड़ीका

स्क्लेरोडर्मा क्या है? | What is Scleroderma?

स्क्लेरोडर्मा एक लंबे समय तक चलने वाली बीमारी है जो आपकी त्वचा और आंतरिक अंगों को प्रभावित करती है। यह तब होता है जब आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली आपके शरीर को प्रोटीन कोलेजन का बहुत अधिक बनाने का कारण बनती है, जो आपकी त्वचा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

आपकी त्वचा का लचिलापन कम हो जाता है । इस रोग में फेफड़ों, और रक्त नलिकाओ में भी सिकुड़न पैदा हो सकती है।
स्क्लेरोडर्मा संक्रामक नहीं है जिसका अर्थ है कि आप इसे अन्य लोगों से प्राप्त नहीं कर सकते हैं। इस बीमारी में उपचार लम्बे समय तक चलता है। उपचार आपके लक्षणों को कम कर सकता है ताकि आप बेहतर महसूस कर सकें।

स्क्लेरोडर्मा शरीर के कई हिस्सों जैसे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट, फेफड़े, गुर्दे, हृदय, रक्त वाहिकाओं, मांसपेशियों को प्रभावित करता है।

स्क्लेरोडर्मा- कैसे पहचाने | Scleroderma - How To Recognize, Dr. Ashish Badika

स्क्लेरोडर्मा की पहचान कैसे करें | How to Recognize Scleroderma

कुछ लक्षण हैं जो आपके शरीर के कुछ हिस्सों को प्रभावित कर सकते हैं।

  • कठोर और मोटी त्वचा जो चमकदार और चिकनी दिखती है। यह आपके हाथों और चेहरे पर सबसे आम है।
  • आपकी उंगलियों पर अल्सर या घाव पाए जाते हैं।
  • आपके चेहरे और छाती पर छोटे लाल धब्बे पाए जाते हैंआपकी त्वचा पर दृढ़, अंडाकार आकार के पैच भी पाए जाते हैं।
  • आप अपने जोड़ों पर दर्द और सूजन का अनुभव कर सकते हैं।
  • आप यह भी महसूस कर सकते हैं कि आपकी मांसपेशियां कमजोर हो रही हैं।
  • आप निगलने में परेशानी महसूस करते हैं।
  • आपकी आंखें और मुंह शुष्क हो जाते हैं।
  • आपके हाथ और उंगलियों के अधिकांश हिस्से में सूजन रह सकती है।
  • आप सांस की तकलीफ का अनुभव कर सकते हैं।
  • बालों का झड़ना, वजन कम होना, थकान भी इस बीमारी के लक्षण हैं।
  • आप कब्ज की समस्या का अनुभव करते हैं।

सही समय पर विशेषज्ञ से उपचार कराने पर इस बीमारी पर नियंत्रण किया जा सकता है

माइयसोटिस क्या है एवं इलाज – डॉ. आशीष बाड़ीका

मायोसिटिस एक प्रकार का रूयमेंटीक रोग है। इसमें मांसपेशियों में सूजन एवं कमजोरी आती है। यह बच्चों सहित किसी भी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है। इस बीमारी में मरीज़ को ज़मीन या बिस्तर से अपने आप उठने में दिक़्क़त आती है। छाती की मांसपेशीयो पे असर होने पे ये गंभीर सिद्ध हो सकती है ।

अगर बात की जाये माइयसोटिस के प्रकारो की तो कुछ इस प्रकार है:

डर्माटोमायोसिटिस: डर्माटोमायोसिटिस (डी एम) एक दीर्घकालिक सूजन संबंधी विकार है जो त्वचा और मांसपेशियों को प्रभावित करता है। इसके लक्षण आम तौर पर त्वचा पर लाल चकत्ते और समय के साथ मांसपेशियों की कमजोरी पड़ना है। ये अचानक हो सकते हैं या महीनों में विकसित हो सकते हैं।

जुवेनाइल डर्माटोमायोजिटिस: जुवेनाइल डर्माटोमायोजिटिस (जेडीएम) बच्चों में होनी वाली बीमारी है|

पॉलीमायोसिटिस (पीएम): पॉलीमायोसिटिस एक साथ शरीर की अनेक मांसपेशियों पे असर करती है।

मायोसिटिस का इलाज | Treatment of Myositis


दवाई एवं इंजेक्शन से इलाज सम्भव। इसके अलावा, आपके डॉक्टर जीवनशैली में बदलाव की सिफारिश कर सकते है ताकि आप अपनी ताकत बहाल कर सकें।

मायोसिटिस के उपचार:

1.चिकित्सा उपचार


कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स: कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स और अन्य दवाएं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को दबाती हैं । इनको इम्यूनोसप्रेसेंट्स के नाम से जाना जाता है।

ऐंटाई इन्फ़्लैमटॉरी दवाएं आप को दर्द से राहत के लिए इस्तेमाल की जाती है। उदाहरण-एस्पिरिन या इबुप्रोफेन

साइक्लोफॉस्फेमाइड: यह एक दवा है जिसका उपयोग प्रतिरक्षा प्रणाली को दबाने के लिए किया जाता है।

अजाथाओप्रीन: यह एक इम्यूनोसप्रेसिव दवा है। इसका उपयोग रुमेटीइड गठिया, पॉलीएंगाइटिस के साथ ग्रैनुलोमैटोसिस, क्रोहन रोग, अल्सरेटिव कोलाइटिस, सिस्टमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस और किडनी प्रत्यारोपण में अस्वीकृति को रोकने के लिए किया जाता है।

माइकोफेनोलेट मोफेटिल: माइकोफेनोलेट मोफेटिल एक बहुत महत्वपूर्ण दवा है

रिटक्सिमैब: रिटक्सिमैब एक मोनोक्लोनल एंटीबॉडी दवा है जिसका उपयोग ऑटोइम्यून बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है।

2. जीवन शैली प्रबंधन परिवर्तन-


व्यायाम दवा उपचार के प्रभावी होने के बाद, आपके डॉक्टर द्वारा निर्धारित नियमित स्ट्रेचिंग अभ्यासों का एक कार्यक्रम कमजोर बाहों और पैरों में गति की सीमा को बनाए रखने में मदद कर सकता है। भौतिक चिकित्सा स्थायी मांसपेशियों को छोटा करने से रोकने में भी मदद कर सकती।